JANTA KI PUKAR

बदायूं में युवक की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि फाइनेंस कंपनी संचालक ने युवक के जमा किए गए रुपए देने से इंकार कर दिया इसी कारण उसने आत्महत्या की है। परिवार के लोग शव लेकर आरोपी के घर जा पहुंचे और हंगामा किया। इस दौरान पुलिस भी पहुंच गई, जबकि आरोपी ने घर का दरवाजा भीतर से बंद कर लिया और बाहर नहीं आया।

थाना सिविल लाइंस क्षेत्र के मीरा सराय गांव निवासी पप्पू (42) ने शहर के चित्रांशनगर में रहने वाले डीके मौर्य नाम के व्यक्ति की फाइनेंस में अपनी रकम जमा की थी। आरोप है कि कुछ समय पहले पप्पू की जमीन भी अपने नाम करा ली थी, जबकि रुपए के नाम पर कभी पांच हजार तो कभी 10 हजार रुपए देकर टरका देता था। पिछले दिनों पप्पू की तबीयत खराब होने पर परिजन उसे अलीगढ़ ले गए थे। इस बीच आरोपी से रुपए मांगे तो उसने इंकार कर दिया।

शनिवार को परिवार वाले पप्पू को घर ले आए। यहां शाम को उसकी मौत हो गई। इससे आक्रोशित परिजन शव लेकर आसपास इलाके की भीड़ के साथ फाइनेंस संचालक के दरवाजे पर आ धमके और शव वहीं रखकर हंगामा शुरू कर दिया। मामले की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने समझाने की काफी कोशिश की लेकिन भीड़ नहीं मानी। पप्पू की बेटी ने बताया कि उनके पिता के लाखों रुपये आरोपी फाइनेंस संचालक डकारे बैठा है। कई अन्य लोगों की रकम भी दबाए हुए है।

रुपए के लेनदेन का था विवाद, आरोपी के घर के बाहर शव रखा, गेट बंदकर अंदर बैठा रहा आरोपी

पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लिया
अब उसके पिता ने आत्महत्या कर ली है और घर पर इतने रुपए भी नहीं कि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके। ऐसे में कम से कम अब तो आरोपी को रुपए देना चाहिए। इधर, आरोपी ने भीड़ देख घर का दरवाजा भीतर से बंद कर लिया। भीड़ ने दरवाजा खुलवाने की काफी कोशिश की, लेकिन नतीजा नहीं निकला। पुलिस भी घटनास्थल पर जा पहुंची और लोगों की बात सुनकर उन्हें समझाने की कोशिश में लगी रही। देर रात एसडीएम सदर सुखलाल प्रसाद वर्मा के समझाने पर लोग माने और पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए कब्जे में ले लिया। वहीं आरोपी को भी हिरासत में ले लिया गया।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *