JANTA KI PUKAR

प्रयागराज में हुए उमेशपाल हत्याकांड में माफिया अतीक अहमद और अशरफ का नाम मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर सामने आया था। साजिश में अशरफ का साला सद्दाम उर्फ अब्दुल समद भी शामिल था। माफिया अशरफ के साले सद्दाम और उसके गुर्गों के खिलाफ बिथरी चैनपुर पुलिस ने गैंगस्टर की रिपोर्ट दर्ज की है। जेल के वार्डर रहे मनोज गौड़ और शिवहरी अवस्थी को भी सद्दाम के 11 सदस्यीय गिरोह में शामिल किया गया है। नया मुकदमा कर नन्हे को जेल भेजा गया है। सद्दाम बदायूं और आतिन रामपुर जेल में बंद हैं।

UP: माफिया अशरफ के साले के करीबियों पर बड़ी कार्रवाई, अब संपत्ति होगी जब्त; असद को भगाने वाले पर भी शिकंजा

अमर उजाला ब्यूरो, बरेली Published by: आकाश दुबे Updated Thu, 29 Feb 2024 09:14 PM IST
सार

प्रयागराज में हुए उमेशपाल हत्याकांड में माफिया अतीक अहमद और अशरफ का नाम मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर सामने आया था। साजिश में अशरफ का साला सद्दाम उर्फ अब्दुल समद भी शामिल था।

Big action against mafia Ashraf brother in law Saddam s close ones
सद्दाम – फोटो : सोशल मीडिया

विस्तार

Follow Us

माफिया अशरफ के साले सद्दाम और उसके गुर्गों के खिलाफ बिथरी चैनपुर पुलिस ने गैंगस्टर की रिपोर्ट दर्ज की है। जेल के वार्डर रहे मनोज गौड़ और शिवहरी अवस्थी को भी सद्दाम के 11 सदस्यीय गिरोह में शामिल किया गया है। नया मुकदमा कर नन्हे को जेल भेजा गया है। सद्दाम बदायूं और आतिन रामपुर जेल में बंद हैं।

Trending Videos

प्रयागराज के माफिया रहे पूर्व विधायक अशरफ और अतीक अहमद की प्रयागराज के धूमनगंज थाने में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अशरफ के साले सद्दाम और उसके गुर्गों पर बिथरी चैनपुर पुलिस ने गैंगस्टर की कार्रवाई की है। प्रयागराज में हुए उमेशपाल हत्याकांड में माफिया अतीक अहमद और अशरफ का नाम मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर सामने आया था। साजिश में अशरफ का साला सद्दाम उर्फ अब्दुल समद भी शामिल था। वह बारादरी क्षेत्र में रहकर अपने गुर्गे लल्ला गद्दी के जरिये बरेली जिला जेल में बंद बहनोई अशरफ को सुविधाएं पहुंचाता था। 

उमेशपाल हत्याकांड के बाद जेल स्टाफ भी सवालों के घिर गया था। जेल पुलिस के दो सिपाही मनोज गौड़ और शिवहरी अवस्थी को भी सद्दाम से दोस्ती निभाने के आरोप में जेल भेजा गया था। सद्दाम ने बहनोई की गुर्गों से अवैध मुलाकात कराकर उमेशपाल हत्याकांड की भूमिका तैयार कराई थी। अशरफ की काली कमाई को जमीनों में भी निवेश किया था। निवेश कराने वाले फरहद खां उर्फ गुड्डू को भी पुलिस ने जेल भेजा था। पुलिस ने मुलाकात करने और सुविधाएं पहुंचाने वाले दयाराम उर्फ नन्हे, मोहम्मद सरफुद्दीन, फुरकान नवी खान, राशिद अली, मोहम्मद आरिफ को भी जेल भेजा था। बिथरी चैनपुर पुलिस ने इन सभी लोगों पर गैंगस्टर की रिपोर्ट दर्ज की है। सभी आरोपियों की संपत्ति का चिह्नीकरण कर उसे सीज किया जा सकता है। इससे पहले इस मुकदमे में सभी की दोबारा से गिरफ्तारी की जाएगी।

असद को भगाने वाले आतिन जफर पर भी शिकंजा
उमेशपाल हत्याकांड को अंजाम देने वाले असद को हत्याकांड के बाद भगाने में आतिन जफर ने मदद की थी। आतिन का पिता जफरुल्ला अतीक अहमद का खास गुर्गा था और अतीक के भाषण लिखता था। जांच में सामने आया था कि आतिन ने भी जेल में बंद अशरफ से अवैध मुलाकात की थी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। फिलहाल आतिन को रामपुर जेल शिफ्ट किया गया है। बिथरी पुलिस ने आतिन पर भी गैंगस्टर लगाया है।

सद्दाम और आतिन के अलावा सबको मिली जमानत
अशरफ का साला सद्दाम बदायूं जेल की संवेदनशील सेल में बंद है। वहीं आतिन रामपुर जेल में बंद है। इन दोनों के अलावा गिरोह के सभी सदस्यों को कोर्ट से जमानत मिल गई थी। जमानत पर छूटने के बाद सभी लोग भूमिगत हो गए थे। बिथरी थाने में गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज होने के बाद सद्दाम के गुर्गे शहर छोड़कर फरार हो गए हैं। पुलिस को केवल दयाराम मिल सका, बाकी की भी गिरफ्तारी होनी है।

गिरोह के इन सदस्यों पर हुई कार्रवाई
गैंग लीडर सद्दाम उर्फ अब्दुल समद निवासी हटवा प्रयागराज, जेल वार्डर मनोज कुमार गौड़ निवासी अशरफ खां छावनी और शिवहरी अवस्थी गणेश नगर, दयाराम उर्फ नन्हें निवासी सैदपुर कुर्मियान, फरहद खां उर्फ गुड्डू निवासी परतापुर जीवनसहाय, सरफुद्दीन निवासी चकमहमूद, मोहम्मद रजा उर्फ लल्ला गद्दी निवासी कांकरटोला चकमहमूद, फुरकान नवी खान निवासी रामनगर कॉलोनी रोड नंबर एक, राशिद अली निवासी परौरा मीरगंज, मोहम्मद आरिफ निवासी फीलखाना पीलीभीत और आतिन जफर खुल्दाबाद प्रयागराज।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *